TOTAL VISITORS :- 331548
View In English +91-7782-229037

The Bastar Vishwavidyalaya, a premier institution of post graduate teaching and research in the state., was established by an Act of 02-Sept. 2008. Shri Shekhar Dutt is the governor of the Indian state of Chhattisgarh and his last post as an IAS officer was as Secretary in the Ministry of Defence of the Government of India. He belongs to the 1969 batch of IAS from Madhya Pradesh cadre.

दिनांक : 18/Sep/2014


-: क्विक मेन्युज :-

प्रवेश के नियम

1. प़ात्रता

एम. ए. कक्षाओं के लिए स्नातक उपाघि में एम. एस. - सी या एम.टेक कक्षाओं के लिए बी. एस. सी उपाधि में कम से कम द्धितीय श्रेणी होनी चाहिए । पहले से स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त छात्रों को स्थान रिक्त रहने पर ही प्रवेश देना संभव होगा । प्रवेश के समय आवेदनकर्ता की उम्र 27 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए । महिलाओं के लिए उम्र की सीमा नहीं होगी । पात्रता हेतु अपनी समस्त समस्त पूर्ववर्ती परीक्षाओं की अंकसूची की अभिप्रमाणित स्वच्छ फोटो प्रतियां एवं उपाधि - प्रमाण-पत्र की भी फोटो प्रतियां मूल प्रमाण पत्रों के साथ जमा करनी होंगी जिसमें सेकेण्डरी तथा हायर सेकेण्डरी की अंकसूचियों की फोटो प्रति संलग्न करना आवष्यक है । उक्त आवष्यक कागजात प्राप्त होने पर ही पात्रता हेतू निर्धारित फीस 60.00 जमा करना आवष्यक होगा । छत्तीसगढ के बाहर सिथत विश्ववि़धालय बोर्ड से परीक्षा उत्तीर्ण करके इस विष्वविधालय से पात्राता प्रमाण पत्र प्राप्त करके संबंधित अघ्ययनषालाओं में प्रवेष के पूर्व जमा करना होगा ।

2. आरक्षण

छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार 15 प्रतिशत स्थान पात्रता प्राप्त अजा के छात्रों के लिए 18 प्रतिशत स्थान पात्रता प्राप्त अजजा के छात्रों के लिए तथा 14 प्रतिशत स्थान प्राप्त अन्य पिछडे वर्ग के छात्रों के लिए तथा 3 प्रतिशत स्थान विकलांगों के लिए आरक्षित रहेंगें । छत्तीसगढ़ शासन के नियमानुसार 3 प्रतिशत स्थान स्वतंत्रता संग्राम - सैनिका के आश्रित के लिए आरक्षित रहेंगे । इन वर्गो के छात्र न मिलने पर रिक्त स्थान अन्य सुपात्र छात्रों को दे दिए जाएंगे । इन सभी वर्गो में उपलब्ध स्थानों में से 30 प्रतिशत स्थान महिलाओं के लिए आरक्षित रहेगा ।आरक्षित स्थानों हेतु आवेदन पत्र देते समय सक्षम अधिकारी का प्रमाण पत्र संलग्न करना अनिवार्य है

3 चयन - आधार

छात्र-छात्राओं का चयन निम्नानुसार होगा-

(1) छत्तीसगढ़ के अन्य विश्ववि़धालय के प्रथम श्रेणी के छात्र-छात्राएं । (2) छत्तीसगढ के बाहर के विश्ववि़धालय के प्रथम श्रेणी के छात्र-छात्राएं । (3) प्रथम श्रेणी के लिए जो क्रम अपनाया गया उसी क्रम से अन्य गुणानुक्रम

क . स्नातकोत्तर कक्षाओं में प्रवेश केवल प्रावीण्य के आधार पर दिया जाएगा । प्रावीण्य सैद्धातिक पेपरों के कुल अंकों के अनुक्रमानुसार निर्धारित होगा ।

ख . स्नातक कक्षा प्रथम श्रेणी में पास सभी विधार्थी स्नातकोत्तर कक्षाओं में प्रवेश की पा़त्रता रखते है परन्तु सीट की उपलब्धता के आधार पर उनके मध्य परस्पर - प्रावीण्य उनकी पात्रता के लिए आवश्यक पीरक्षाओं के सैद्धांतिक पेपरों में प्राप्त कुल अंकों के अनुक्रमानुसार निर्धारित होगा ।

ग. विज्ञान संकाय की स्नातकोत्तर कक्षा में प्रवेश की पात्रता प्रावीण्य के गुणानुक्रम के आधार पर होगी । उनके मध्य परस्पर प्रावीण्य उनके द्धारा उस विषय के सैद्धांतिक पेपरों के कुल प्राप्तांकों के अनुक्रमानुसार निर्धारित होगा जिस विषय की स्नातकोत्तर कक्षा में प्रवेश लेना चाहते है ।
घ. उपर्युक्तानुसार प्रावीण्य निर्धारित करते हुए अजाअजजाअन्य पिछडे वर्ग के विधार्थी के लिए सैद्धांतिक पेपरों के कुल प्राप्तांक के प्रतिषत में 5 प्रतिषत तक की शिथिलिता दी जाएगी

4. अधिभार

गुणानुक्रम निर्धारित करते समय अधिभार का आषय प्राप्तांकों के प्रतिशत के आधार पर अधिभार से है । यह अधिभार निम्नानुसार दिया जाएगा किन्तु एक से अधिक प्रकार का अधिभार नहीं दिया जायेगा ।
(1) एन. सी. सी. स्नातक स्तर पर "A" सर्टीफिकेट के आधार पर
(2) स्नातकोत्तर स्तर पर "B" सर्टीफिकेट के आधार पर

अथवा

(2) राज्यस्तरीय संचालनालयीन एन. सी. सी. प्रतियोगिताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले छात्रों को
(3) नई दिल्ली के गणतत्रं दिवस के परेड में एन. सी. सी. एन. एस.एस. में भाग लेने वाले अभ्यर्थी का
(4) एन. एस.एस.में 240 घंटो के प्रमाणित कार्य का अनुभव के आधार पर
(5 )शासकीय महाविधालयों में आनर्स विषय पाठयक्रम से उतीर्ण छात्र को स्नातकोत्तर कक्षाओं में उसी विषय में प्रवेश लेने पर
(6) नई बस्तर विश्ववि़धालय जगदलपुर के शिक्षकों अधिकारियों एवं कर्मचारियों के पुत्र पुत्री पति पत्नी को (7) विकलांगों के प्रवेश के लिए गुणाक्रम

5. विशेष प्रोत्साहन

1. जिसने ओलमिपयाडएशियाडस्पोटर्स अथारिटी आफ इंडिया द्धारा राष्टीय अथवा अन्तरराष्टीय स्तर पर आयोजित खेल-प्रतियोगिता में भाग लिया है, उसे बगैर गुणानुक्रम के आगामी शिक्षा-सत्र में उस कक्षा में प्रवेष दिया जाए, जिसकी उसे पात्रता हो । परंतु इस प्रकर की सुविधा को पुन: प्राप्त करने के लिए उसे उपर्युक्त उपलबिध पुन: आवष्यक होगी ।
2. भारतीय विश्ववि़धालय के संघ (ए.आर्इ.यू.) के द्धारा, छत्तीसगढ़ शासन उच्च शिक्षा विभाग द्धारा आयोजित राज्यस्तरीय तथा लोक शिक्षण संचालनायल, छत्तीसगढ शासन द्धारा संचालित खेलकूद प्रतियोगिता, एवं केन्द्रीय विधालय संगठन द्धारा आयोजित अंतर-आंचलिक खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेने वालों को नियमानुसार इसके द्धारा अंतरिम परीक्षा प्राप्तांको का निम्नलिखित अधिभार दिया जाएगा -

(क) स्वर्ण पदकप्रथम स्थान प्राप्त करने वालो को 20 प्रतिशत
(ख) रजत मेडलद्धितीय स्थान प्राप्त करने वालों को 15 प्रतिशत
(ग) कांस्य पदकतृतीय स्थान प्राप्त करने वालों को 12 प्रतिशत
(घ) केवल भाग लेने वालों को 10 प्रतिशत

(6)प्रवेश हेतु आवेदन

(1) अध्ययनशाला में प्रवेश प्राप्त करने के लिए आवेदन - पत्र विवरण पत्रिका के अंत संलग्न निर्धारित प्रपत्र पर ही प्रस्तुत पर ही प्रस्तुत किया जाना चाहिए । जो छात्रछात्रा विश्ववि़धालय के वेबसाइट से डाउन लोड कर करके आवेदन पत्र भरेंगे उन्हें आवेदन के साथ 150.00 रू कर बैंक ड्राफट संलग्न करना होगा जो कुलसचिव बस्तर विश्ववि़धालय जगदलपुर जिला बस्तर (छ ग) के नाम देय होगा अन्यथा उस आवेदन पर विचार नहीं किया जाएगा । आवेदन पत्र स्पष्ट एवं सुबोध अक्षरों में समस्त आवश्यक सुचनाओं सहित छात्रों द्धारा स्वत: पूरित करके एवं उसके माता पिता अभिभावक द्धारा हस्ताक्षरित होकर संबंधित अध्ययनषाला के कार्यालय में निर्धारित समयावधि में जमा करना होगा ।
(2)विश्ववि़धालय अध्ययनशाला में आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 15 जुलाई 2009 होगी कुलपति की अनुमति से प्रवेष की अंतिम तिथि 14 अगस्त 2009 होगी ।
(3)आवेदन पत्र के साथ निम्नलिखित मूल प्रलेखों के संलग्न करके प्रेशित करना आवष्यक है -

जिस विश्ववि़धालय अध्ययनशाला विभाग महाविधालय में छात्र छात्रा ने अंतिम नियमित अध्ययन किया हो उससे प्राप्त स्थानांतरण प्रमाण पत्र प्रवेश शुल्क जना करने के लिए संलग्न करन अनिवार्य है ै। इसके लिए किसी प्रकार की वचनबद्धता स्वीकार नहीं की जाएगी । अपूर्ण आवेदन पत्र स्वीकार नहीं किया जायेगा ।
(4) जो छात्र गत शैक्षाणिक सत्र से इस विश्ववि़धालय में किसी अध्ययनशाला में अध्ययनरत है उनके लिए अंतर अध्ययनशाला स्थानांतरण प्रमाण पत्र की आवष्यकता होगी । सभी उत्तीर्ण परीक्षाओं में प्राप्त अंका सूचियों की प्रमाणित सत्यप्रतियां संलग्न की जाएं सैद्धातिक एवं प्रायोगिक दोनों के प्राप्तांक दिया जाना आवष्यक है । यदि विधार्थी ने अमहाविधालयीन या भूतपुर्व छात्र के रूप में पिछली परीक्षा उतीर्ण की है उसे किसी प्राचार्य शासकीय राजपत्रित अधिकारी द्धारा प्रदत्त सदाचार प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा ।
(5)बस्तर विश्ववि़धालय में प्रवेश तिथि से एक माह के अंदर प्रवजन प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा ।
(6)किसी संस्था या कार्यालय में सेवारत विधार्थी को अपने नियोजनकार्ता का एयह अनुमतित्र प्रस्तुत करना होगा की उसके द्धारा अध्ययनशाला में प्रवेश लेने एवं अध्ययन करने पर उन्हें कोई आपतित नहीं है
(7)साक्षात्कार : प्रवेशच्छुक छात्रों कों स्वयं के व्यय पर सा़क्षात्कार हेतु संबंधित अध्ययनशाला अध्यक्ष के समक्ष नियत तिथि को नियत समय पर उपसिथत होना पडेगा ।
(8 कुल स्थान : अध्ययनशाला में सीमित स्थान है एवं प्रवेश विश्ववि़धालय द्धारा निर्धारित की पूर्ति के आधार पर ही दिया जाता है । )
(9) विविध अध्ययनशाला अध्यक्ष को यह अधिकार है किवे बिना कारण बताए किसी भी विधार्थी की सूची संबंधित अध्ययनशाला के सूचना पटल पर लगा दी जारएगी । प्रवेशच्छुक विधार्थियों को स्वयं इसकी जानकारी प्राप्त करनी होगी । इस सूचना में दी गर्इ तिथि तक विश्ववि़धालय कार्यालय में ष्षुल्क जमा न करने पर प्रवेश की अनुमति निरस्त कर दी जायेगी ।
(10) विधार्थी केा प्रवेश की सूचना व्यकितगत रूप् से नहीं दी जाएगी । प्रवेश प्राप्त विर्धार्थियों की सूची संबंधित अध्ययनशाला के सूचना पटल पर लगा दी गई तिथि लक विश्ववि़धालय कार्यालय में शल्क जमा न करने पर प्रवेष की अनुमति निरस्त कर दी जायेगी ।
(11) आवेदन-पत्र में उल्लेखित जानकारी बिल्कुल सत्य होनी चाहिए । यदि कोर्इ जानकारी विधार्थी द्धारा छिपार्इ जाएगी या असत्य प्रस्तुत की जाएगी, तो विधार्थी का प्रवेष निरस्त कर दिया जाएगा एवं आवष्यकतानुसार उसे अध्ययनशाला अलग भी किया जा सकेगा ।
(12) विवरण-पत्रिका में दिये गए किसी भी नियमोपनियम में परिवर्तन करने का पूर्ण अधिकार विश्ववि़धालय को है और इस दिषा में विज्ञपित तथा प्रसारित सभी आदेष और निर्देष विधार्थियों पर समान रूप से लागू होंगे ।

विशेष

(1) अध्ययनशाला की अन्य कक्षाओं में प्रवेश हेतु इन्हीं नियमों का आवश्यकतानुसार अनुसरण किया जा सकता है । एम.फिल.कक्षा में 40 प्रतिशत स्थान सेवारत शिक्षकों कि लिए सुरक्षित रहेंगे ।
(2) स्नातकोत्तर कक्षा के नियमित या अमहाविधालयीन दोनो वर्गो के छात्र-छात्राएँ किसी भी अन्य पाठयक्रम में न तो प्रवेश ले सकेंगे और न ही परीक्षा दे सकेंगे । यह प्रावधान डिप्लोमा इन लैंग्वेजज एवं सर्टिफिकेट कोर्स इन ट्रांसलेषन के साथ लागू नहीं होगा । पी.जी. डिप्लोमा इन कम्प्यूटर एप्लीकेशन के साथ किन्हीं अन्य पाठयक्रमों में न तो प्रवेश लेने और न ही परीक्षा में बैठने की पात्रता होगी । जो छात्रछात्रा तथ्य को छिपाकर प्रवेश लेगा लेगी, उसे दंडित करके उसका प्रवेश निरस्त कर दिया जाएगा ।
(ए) नाम सूची से नाम-निरस्तीकरण

विधार्थीयों का नाम नामसूची से निम्नलिखित कारणों से काट दिया जाएगा -
(क) विधार्थियों का आचरण अध्ययन शाला मे अच्छा न होने पर,
(ख) अध्ययन में उसकी प्रगति संतोषप्रद न होने पर,
(ग) यदि कुलपति उसका नाम काटा जाना उचित समझते हों ।

(ऐ) उपथिति

बस्तर विश्ववि़धालय, जगदलपुर की परीक्षा में प्रवेश पाने के लिए नियमानुसार विधार्थियों को अपनी कक्षा में कम से कम 75 प्रतिषत उपसिथति प्राप्त करनी होगी । जिन विषयों में प्रायोगिक कार्य हैं, उनमें सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक कार्य में अलग-अलग 75 प्रतिशत उपसिथति होनी चाहिए ।

(ओ) ब्लड-ग्रुप :- विश्ववि़धालय की अध्ययनशाला में प्रवेष के पूर्व छात्र-छात्रों को ब्लड-ग्रुप की जानकारी देना अनिवार्य है ।

(औ) विषय-परिवर्तन यदि कोई विधार्थी किसी अध्ययनशाला से अन्य अध्ययनशाला या अन्य विषय में परिवर्तन चाहता हो, तो उसे संबंधित अध्ययनशाला प्रमुख से लिखित अनुमति प्राप्त करके पूर्व अध्ययनषाला (पुराने विभाग) से अंतरविभागीय स्थानांतरण-प्रमाण पत्र लेकर वांछित अध्ययनशाला में जमा करना होगा और ऐसा परिवर्तन 14 अगस्त के बाद नहीं किया जाएगा ।
Bastar University, Jagdalpur